Home news CM अरविंद केजरीवाल ने कहा, प्रदूषण को लेकर हम चिंतित, Odd-Even योजना बढ़ाने पर सोमवार को होगा फैसला
3 weeks ago

CM अरविंद केजरीवाल ने कहा, प्रदूषण को लेकर हम चिंतित, Odd-Even योजना बढ़ाने पर सोमवार को होगा फैसला

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली में शनिवार-रविवार यानी कल और परसों ऑड-ईवन योजना लागू नहीं होगी. सोमवार को इस पर आगे का फैसला लिया जाएगा.

खास बातें :

  • सीएम केजरीवाल ने कहा, प्रदूषण को लेकर चिंतित
  • दिल्ली में पड़ोसी राज्यों की वजह से बढ़ा प्रदूषण
  • ऑड-ईवन योजना बढ़ाने पर सोमवार को होगा निर्णय

नई दिल्ली : दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली में शनिवार-रविवार यानी कल और परसों ऑड-ईवन योजना लागू नहीं होगी. सोमवार को इस पर आगे का फैसला लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि हम प्रदूषण को लेकर चिंतित हैं. हालांकि यहां प्रदूषण दिल्ली की वजह से नहीं है. हवा की स्थिति पर कल और परसों नजर रखेंगे. इसके बाद सोमवार को तय करेंगे कि Odd-Even योजना आगे बढ़ानी है या नहीं. उन्होंने कहा कि दिल्ली में प्रदूषण पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने की वजह से बढ़ा है, जो बेहद चिंता की बात है. इस दौरान मीडिया से बात करते हुए सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार ‘मुख्यमंत्री सैप्टिक टैंक’ योजना शुरू कर रही है. इस योजना के तहत लोगों के सैप्टिक टैंक की मुफ्त सफाई होगी.
आपको बता दें कि दिल्ली-NCR में आज भी प्रदूषण से बुरा हाल है. दिल्ली के कई इलाक़ों में एयर क्वालिटी इंडेक्स यानी AQI 700 के पार चला गया है. द्वारका में तो AQI 900 के पार है. 10 सबसे प्रदूषित इलाक़ों में 9 दिल्ली के हैं. नोएडा, ग़ाज़ियाबाद और गुरुग्राम में भी हालात ऐसे ही हैं. दूसरी तरफ, दिल्ली-NCR के स्कूल आज भी प्रदूषण की वजह से बंद हैं. दिल्ली के द्वारका, पूसा रोड, रोहिणी, सत्यवती कॉलेज जैसे इलाकों में सबसे ज़्यादा प्रदूषण का स्तर मापा गया है. हालांकि पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के वायु गुणवत्ता निगरानीकर्ता ‘सफर’ का कहना है कि नए सिरे से पश्चिमी विक्षोभ के चलते हवाओं की गति बढ़ने से शुक्रवार को दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति में सुधार की संभावना है.

सफर ने जानकारी दी है कि मंगलवार को दिल्ली के पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने की केवल 480 घटनाएं दर्ज की गयीं. सफर ने बताया,‘अफगानिस्तान और पड़ोसी इलाकों के ऊपर चक्रवाती तूफान के कारण नए सिरे से पश्चिमी विक्षोभ बन रहा है. अगले दो दिन में इसका असर उत्तर पश्चिमी भारत पर पड़ेगा और इससे शुक्रवार तक हवा की रफ्तार बढ़ेगी.’ सफर ने कहा है कि हवा की ‘बहुत खराब’ श्रेणी में 16 नवंबर तक ही सुधार होने की संभावना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

इसरो ने फिर रचा इतिहास , अंतरिक्ष में भारत की तीसरी आखँ – Cartosat3 launched

इसरो ने 27 नवंबर, 2019 को सुबह 9:28 बजे IST से अमेरिका के 13 वाणिज्यिक नैनोसैटलाइट्स के सा…