dillinewslive.com
Home Important People क्या वाकई जैक मा छोड़ेंगे अली बाबा का अध्यक्ष पद ?
September 8, 2019

क्या वाकई जैक मा छोड़ेंगे अली बाबा का अध्यक्ष पद ?

ऑनलाइन दुनिया के दिग्गज कारोबारी और चीन के सबसे अमीर शख्स जैक मा ने एक साल पहले ही अध्यक्ष पद से हटने का संकेत दे दिया था.

dillinewslive.com

  • जैक मा ने अपनी करियर की शुरुआत एक अंग्रेजी टीचर के तौर पर की थी
  • फॉर्ब्स 2018 के मुताबिक जैक मा चीन के सबसे धनी शख्स
  • अपने जन्मदिन के मौके पर जैक मा 10 सितंबर को छोड़ेंगे अध्यक्ष पद

अलीबाबा ग्रुप के फाउंडर जैक मा 10 सितंबर को कंपनी बोर्ड के अध्यक्ष पद से हट रहे हैं. 10 सितंबर को ही जैक मा का बर्थडे है और इसी दिन उन्होंने कंपनी से अलग होने का फैसला किया है.

दरअसल, ऑनलाइन दुनिया के दिग्गज कारोबारी और चीन के सबसे अमीर शख्स जैक मा ने एक साल पहले ही अध्यक्ष पद से हटने का संकेत दे दिया था. उन्होंने कहा था कि वो अपने 55वें जन्मदिन के मौके पर 10 सितंबर 2019 को कंपनी के अध्यक्ष पद से छोड़ देंगे. उनकी जगह अलीबाबा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) डेनियल झेंग लेंगे.

dillinewslive.com

जैक मा चीन के सबसे धनी कारोबारी

फॉर्ब्स की 2018 की सूची के मुताबिक जैक मा चीन के सबसे धनी व्यक्ति हैं. फॉर्ब्स ने उनकी दौलत 34.6 बिलियन डॉलर बताई थी. इससे पहले 2014 में भी जैक मा के नाम चीन के सबसे अमीर लोगों में शुमार था. हालांकि 2017 में जैक मा खिसककर तीसरे नंबर पर पहुंच गए थे. लेकिन 2018 में उन्होंने फिर नंबर 1 पर कब्जा कर लिया. अलीबाबा में जैक मा की लगभग 9 प्रतिशत हिस्सेदारी है.

इच्छाशक्ति ने दिलाई कामयाबी

चीन में एक गरीब परिवार में जन्में जैक मा ने अपनी करियर की शुरुआत एक अंग्रेजी टीचर के तौर पर की थी. उनका शुरुआती करियर बेहद संघर्षपूर्ण रहा था. उन्हें करीब 30 नौकरियों के लिए रिजेक्ट कर दिया गया था. आज से दो दशक पहले जैक मा ने अपने कुछ दोस्तों के साथ मिलकर अलीबाबा कंपनी की नींव रखी थी.

सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि जैक मा को उस समय कंप्यूटिंग की कोई खास जानकारी नहीं थी. लेकिन मजबूत इच्छाशक्ति की वजह से वो कदम बढ़ाते गए और कामयाबी मिलती गई. साल 2014 में अलीबाबा ने दुनिया की सबसे बड़ी सार्वजनिक हिस्सेदारी के जरिए 25 अरब डॉलर जुटाए थे.

dillinewslive.com

शिक्षा के क्षेत्र में करेंगे वापसी

जैक मा ने आज से 10 साल पहले अपने उत्ताधिकारी की तलाश शुरू कर दी थी. साल 2013 में उन्होंने बोर्ड अध्यक्ष बनने के लिए मुख्य कार्यकारी अधिकारी की कुर्सी छोड़ दी थी. अलीबाबा के चेयरमैन पद से हटने के बाद जैक मा शिक्षा के क्षेत्र में काम करेंगे. इसके लिए जैक मा फाउंडेशन के जरिए चीन के ग्रामीण इलाकों में शिक्षा के प्रचार-प्रसार को और बढ़ाने का फैसला किया है.

dillinewslive.com

ट्रंप भी जैक मा के कायल

ब्लैक फ्राइडे और साइबर मंडे जैसे शॉपिंग इवेंट के जरिए जैक मा ने अमेरिका में भी अपनी धाक जमाई. पिछले दिनों अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी जैक मा की तारीफ करते दिखे थे. लेकिन जैक मा ऐसे समय कुर्सी छोड़ रहे हैं जब चीन और अमेरिका के बीच ट्रेड वॉर चरम पर है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

रोहतक: ‘विजय संकल्प’ रैली में पीएम मोदी बोले – देश में ‘ISRO एक स्पिरिट हैं

मोदी ने बीजेपी की ‘विजय संकल्प’ रैली को संबोधित करते हुए कहा, ”सात सितंब…